Utility:

ICMR चेतावनी: दर्द निवारक से बचें अगर आपको दर्द या बुखार है, तो रोगी खराब हो सकते हैं यदि उनके पास कोरोना है; हार्ट, डायबिटिक और पीए मरीजों के लिए विशेष टिप्स

Written by [email protected]


विज्ञापनों से परेशानी हो रही है? विज्ञापन मुक्त समाचार प्राप्त करने के लिए दैनिक भास्कर ऐप इंस्टॉल करें

4 मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना

ICMR (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) ने अपनी नवीनतम सलाह में कहा है कि इबुप्रोफेन जैसे कई दर्द निवारक कोरोना की गंभीरता को बढ़ाते हैं। हृदय रोगियों के लिए हानिकारक मानी जाने वाली ये दवाएं गुर्दे की बीमारी के खतरे को भी बढ़ाती हैं।

आईसीएमआर का कहना है कि लोगों को एनएसएआईडी (गैर-स्टेरायडल विरोधी भड़काऊ दवाओं) से बचना चाहिए और केवल डॉक्टरों की सलाह पर इन दवाओं को लेना चाहिए। यदि आवश्यक हो तो एसिटामिनोफेन लें। यह सबसे सुरक्षित दर्द निवारक में से एक है।

आमतौर पर बुखार या शरीर में दर्द होने पर लोग एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीपीयरेटिक ड्रग्स लेते हैं। सबसे आम दवाएं हैं जो एसिटामिनोफेन के साथ इबुप्रोफेन को मिलाकर बनाई जाती हैं।

हृदय रोग, मधुमेह या उच्च रक्तचाप से कोरोना का खतरा नहीं बढ़ता है
आईसीएमआर का कहना है कि हृदय रोग, मधुमेह या उच्च रक्तचाप वाले रोगियों को अन्य लोगों की तुलना में मुकुट प्राप्त करने का अधिक जोखिम नहीं है। हालांकि, दुनिया में अब तक का अनुभव बताता है कि इन बीमारियों से घिरे लोगों को क्राउन होने के बाद गंभीर रूप से बीमार होने का अधिक खतरा होता है। इसलिए, इन लोगों को अधिक सावधान रहने की सलाह दी जाती है।

डायबिटीज: शुगर को कंट्रोल करें, दवा खाएं
आईसीएमआर अनुशंसा करता है कि मधुमेह के रोगियों को चिकित्सक की सलाह पर पर्याप्त पोषण और पर्याप्त व्यायाम की आवश्यकता होती है। इन रोगियों को अपने ब्लड शुगर की लगातार निगरानी करते रहना चाहिए और नियमित रूप से दवाएं लेनी चाहिए।

दिल की बीमारी: अगर आपको डॉक्टर न दिखें तो भी दवा लेते रहें
इसी तरह, यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हृदय रोगी समय पर अपनी दवाएं लें। अपने डॉक्टर की सलाह के बिना दवा बंद न करें। यदि आप अपने डॉक्टर से नहीं मिल सकते हैं तो भी दवा लेते रहें। विशेष रूप से जो कोलेस्ट्रॉल (स्टैटिन) और मधुमेह की दवाओं को नियंत्रित करते हैं, उनका सेवन करना चाहिए।

रक्तचाप: बीपी दवाएं ताज की गंभीरता को नहीं बढ़ाती हैं

आईसीएमआर का कहना है कि उपलब्ध जानकारी की समीक्षा के बाद, वैज्ञानिक और हृदय रोग विशेषज्ञ कहते हैं कि इस बात के कोई प्रमाण नहीं हैं कि रक्तचाप की दवाएँ कोरोना होने की संभावना या उसके बाद बढ़ जाती हैं। इनमें ड्रग्स यानी एसीई इनहिबिटर और एंजियोटेंसिन रिसेप्टर ब्लॉकर्स यानी एआरबी शामिल हैं।

एसीई इनहिबिटर में रामिप्रिल, एनैलाप्रिल आदि दवाएं शामिल हैं। वहीं, ARB में लॉसार्टन, टेल्मिसर्टन आदि दवाएं शामिल हैं। आईसीएमआर का कहना है कि ये दवाएं दिल के दौरे को रोकने और उच्च रक्तचाप को कम करने में बहुत प्रभावी हैं। इन दवाओं को रोकना काफी हानिकारक हो सकता है।

शारीरिक रूप से सक्रिय रहें, आप अभी भी मांस खा सकते हैं
ICMR की सलाह है कि लोग स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखें। सिगरेट और शराब से दूर रहें। अपने रक्तचाप और रक्त शर्करा को नियंत्रण में रखें और एक या किसी अन्य रूप में नियमित शारीरिक गतिविधि प्राप्त करना जारी रखें। हालाँकि, घर से बाहर दूरी बनाने में सावधानी बरतें। ज्यादा नमक न खाएं। यदि आप शाकाहारी नहीं हैं, तो भी आप मांस खा सकते हैं। प्रोटीन और फाइबर के साथ फल और सब्जियां खाते रहें।

विशेषज्ञ: टीका लगने से पहले या बाद में दर्द निवारक न लें
दुनिया भर के विशेषज्ञों ने कोरोना वैक्सीन प्राप्त करने से पहले या बाद में दर्द निवारक लेने के खिलाफ सलाह दी है। कुछ दर्द जैसे कि इबुप्रोफेन (एडविल, मोट्रिन, और अन्य ब्रांड) जो सूजन को कम करते हैं, शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को धीमा कर देते हैं। जबकि वैक्सीन लगाने का उद्देश्य इसे तेज करना है।

जर्नल वायरोलॉजी में प्रकाशित शोध के अनुसार, ये दर्द निवारक चूहे शरीर में एंटीबॉडी के स्तर को कम करते हैं। कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के फार्मासिस्ट जोनाथन वतनबे का कहना है कि अगर किसी को दर्द निवारक लेने की आवश्यकता है, तो उन्हें एसिटामिनोफेन (टाइलेनॉल) या एसिटामिनोफेन लेना चाहिए। यह सबसे सुरक्षित है।

और भी खबरें हैं …





Source link

ICMR न्यूज़ आईसीएमआर कोरोनावाइरस दर्दनाशक भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद

About the author

Leave a Comment