Bollywood

यादें जो बनी रहती हैं: श्रवण जी, अगर आप बिना जीते हैं …, कोरोना ने गीतकार समीर का सबसे अच्छा दोस्त छीन लिया


विज्ञापनों से परेशानी हो रही है? विज्ञापन मुक्त समाचार प्राप्त करने के लिए दैनिक भास्कर ऐप इंस्टॉल करें

एक घंटे पहलेलेखक: राजेश गाबा

  • प्रतिरूप जोड़ना

‘नहीं, यह नहीं हो सकता कि तेरी याद न आए’ समीर के बहुत अच्छे दोस्तों में से एक है, श्रवण कुमार राठौर, जिन्होंने श्रवण के संगीत के लिए ये गीत लिखे थे। कोरोना के श्रवण की मृत्यु के बाद वह बहुत दुखी है, उसने श्रवण से पूछा था, मेरा दोस्त चला गया है। सिमिर ने दैनिक भास्कर के साथ श्रवण की कई यादें भी साझा कीं।

आपका प्यार किस रंग लाया
श्रवण राठौर का आधार एक बहुत ही शास्त्रीय परिवार से था। उनके पिता पंडित चतुर्भुज राठौड़ एक महान शास्त्रीय संगीत गायक थे। उन्होंने कल्याण जी को संगीत सिखाया। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि वह कितने महान कलाकार थे। उनका पूरा परिवार शास्त्रीय संगीत से जुड़ा था। श्रवण के सभी भाई भी संगीत में रहे। श्रवण से मेरी पहली मुलाकात उषा खन्ना की रिकॉर्डिंग पर हुई थी। तब मैं वहां ताल बजाता था। जब मैं 1984-85 में नदीम से मिला था, तब नदीम-श्रवण ने अपना साथी बनाया था। हम बहुत काम कर रहे हैं। लेकिन तब कोई चेन नहीं बनी। फिर हम आशिकी फिल्म से जुड़े और यह चलन शुरू हुआ। मेरे द्वारा लिखे गीत और नदीम-श्रवण द्वारा संगीत। हम तीनों दोस्त बन गए।

यह सफल होने के बाद भी नहीं बदला।
श्रवण जी व्यवहार के व्यक्ति थे। अच्छे लोग बहुत कम ही आते हैं। सफल लोग बहुत आते हैं। सफल होना और एक अच्छा इंसान बनना अलग होगा, लेकिन श्रवण जी में दोनों गुण हैं। सफलता के पहले और बाद में भी उनके पास यही सुविधा थी। अपने दोस्तों और दोस्तों की मदद करना और रास्ते से हटना उसका गुण था। आपके कितने दोस्तों ने आपके पैसे वर्षों में प्राप्त किए होंगे? आपके पास पैसा नहीं है, लेकिन आप अपने दोस्तों की मदद के लिए इसका इस्तेमाल जरूर करते हैं। मेरे मित्र में ये सभी गुण थे।

हम संगीत परिवार कहते थे
श्रवण भाई का परिवार अद्भुत था। पत्नी भी घरेलू महिला है। सभी का प्यार से स्वागत करते हुए दो बेटे, बहू और पोते भी पोते-पोती बन गए। संगीत से जुड़ी हर चीज। हम आपके परिवार को एक संगीत परिवार कहते हैं। बच्चे भी संगीत में अच्छा करते हैं।

श्रवण सभी की सेवा में काम करता था। कई बार श्रवण और मैं नदीम भाई के घर के साथ मराठा मंदिर, सेंट्रल बॉम्बे जाते थे। श्रवण के पास बहुत सख्त ड्राइवर था। मैं वास्तव में बहुत तेज गाड़ी चलाता था। मैं श्रवण से कहता था कि मैं तुम्हारे साथ नहीं चलूंगा, तुम तेज कारों के शौकीन हो, मुझे घबराहट होती थी। जब मैं आया, तो भाई यह सुनते थे, जल्दी मत देखो, नहीं तो पंडितजी नाराज और उदास हो जाएंगे। कभी-कभी, बैठने के अलावा, श्रवण भाई के घर पर परिवार के साथ गपशप करते थे। कई बार उन्होंने अपने भाइयों रूपकुमार राठौर और विनोद राठौड़ के साथ संगीत की सीटें हासिल कीं।

उस दोपहर सीटों में कई गाने बनाए गए थे
श्रवण में संगीत की जबरदस्त समझ थी। वह अपना हारमोनियम खूब बजाया करता था। क्योंकि हम अपनी सीटों में केवल तीन लोग थे, नदीम और श्रवण भाई। नदीम भाई कांगो, श्रवण भाई हारमोनियम बजाते थे और मैं बैठा रहता था। अगर ये तीनों एक साथ आ गए, तो सब कुछ संभव होगा। प्रतिदिन बैठक, दोपहर का सत्र। नदीम भाई उनके घर जाया करते थे। श्रवण भाई और मैं लोखंडवाला में रहते थे और हम मिलते थे। जितना संगीत की व्यवस्था थी, उतना ही प्यारेलाल भाई लक्ष्मी भाई के साथ काम करते थे। वह सारा काम श्रवण ने किया था। श्रवण ने समग्र रचना श्री नदीम भाई पर छोड़ दी। सुनने वाले भाई संगीत का समर्थन करते थे। दोनों भागीदारों में, एक स्वर था कि यदि आप रचना को संभालते हैं तो आप संगीत देखेंगे। श्रवण भाई भी गाने के लिए अद्भुत थे।

यह हुआ करता था कि अगर उन तीनों के बीच कोई नहीं था, तो सीटें नहीं थीं। वे हमेशा श्रवण से बात करते थे कि वे दोनों गाएँ और बजाएँ। मुझे क्या चाहिए? तो नदीम भाई कहते थे, नहीं, पंडित जी, अगर आप सामने नहीं हैं, तो आप मूर्ख नहीं बन जाते। यदि आप सामने रहते हैं, तो हमारे पास एक प्रेरणा है। मैं नदीम-श्रवण के सामने बैठा एक गीत लिख रहा था, जब श्रवण ने मेरी घड़ी को बार-बार देखा, तो मैंने उससे पूछा कि श्रवण भाई क्या हुआ, आप घड़ी को क्यों देख रहे हैं। तब श्रवण ने कहा – अरे भाई, एक गीत लिखने में आपको 15-20 मिनट से ज्यादा का समय नहीं लगता। यह आधे घंटे से आधे घंटे तक है। तो मैंने कहा, “अरे भाई, आपने कंप्यूटर के रूप में मेरे साथ क्या किया है?” हम लोग खूब मस्ती करते थे।

ध्वनि कान के हारमोनियम से निकलती है।
हमने एक साथ बहुत अच्छी अवधि देखी। आज भी, जब लोग 90 नाम लेते हैं। तब, सबसे ऊपर, नदीम-श्रवण युगल का नाम दिखाई देता है। उन्होंने उस समय सबसे अच्छा काम किया। इन दोनों ने फिल्मों को क्या शानदार संगीत दिया। यह शर्म की बात थी कि नदीम भाई के साथ एक दुर्घटना हुई और उन्हें देश छोड़ना पड़ा। टीम बिखर गई। फिर भी, श्रवण जी ने संगीत में भाग लेना जारी रखा। फिर उन्होंने प्राइवेट काम किया, फिर ट्यूशन किया। क्या अद्भुत संयोजन है दोनों का। वे दिखने में लंबे और सुंदर दोनों हैं।

दोनों की रिकॉर्डिंग ऐसी थी कि नदीम भाई ने सिंगर के साथ तब तक रिहर्सल नहीं की जब तक श्रवण भाई हारमोनियम पर नहीं बैठे। क्योंकि नदीम भाई सोचते थे कि मैं गा रहा हूं लेकिन श्रवण हारमोनियम से निकलने वाली आवाज। हम लोग रिहर्सल में मस्ती करते थे। ज्यादातर डबिंग करने वाले गायक श्रवण जी ही होते थे। गायक उनके साथ अधिक सहज महसूस करते थे। श्रवण जी, हर तरह से प्रभाव वाले व्यक्ति हैं, प्रकृति बहुत अच्छी है। प्रकृति का संतुलन होना जरूरी है। उदाहरण के लिए, यदि कोई टेढ़ा है, तो वह सीधा होना चाहिए। नदीम जी किसी को डांटते थे या कुछ होता था तो श्रवण भाई उसे प्यार से पीटते थे।

प्रकाश ने छोड़ दिया और एक गीत बनाया, ‘अखियां मिलौं कबि चोरियां चोरिए
मुझे गीत के निर्माण का एक दिलचस्प किस्सा याद है। एक रात हम बैठे थे। अचानक लाइट चली गई। तो नदीम भाई ने कहा कि अब क्या करें। तब श्रवण भाई ने कहा कि कोई भी भाई बैठा नहीं जा सकता, लेकिन वह बहुत अच्छे मूड में हो गया है। फिर उन्होंने कहा कि आज हम कैंडल सीट बनायेंगे। फिर श्रवण भाई मोमबत्ती लेकर आए और उसके प्रकाश में हम पूरी रात बैठे रहे। उस रात कई अविश्वसनीय गीत बनाए गए थे। उन गीतों में से एक था राजा की फिल्म Ch अंखिया चुराऊँ क्या तूने जड्डू ’का hi अंखियां मिलाऊँ’। वे दोपहरें बहुत गुजारते थे।

खाना भी, गाना भी, कपूर भाई भी
नदीम भाई को आइसक्रीम खाने का बहुत शौक था। जो लोग उसके घर आते थे, वे जुमला सुनाते थे कि नदीम-श्रवण में एक लिविंग रूम है जहाँ खाना और गाना दोनों बहुत अच्छे थे। एक बार जब हम ‘आ अब लौट चले’ फिल्म कर रहे थे। फिर एक रात, कपूर भाई, ऋषि कपूर, रणधीर कपूर, और राजीव कपूर श्रवण भाई के घर आए। फिर बैठक जम गई। रसोइया श्रवण भाई के यहाँ बढ़िया भोजन तैयार करता था। शराब और संगीत का दौर रात से शुरू होकर सुबह तक चला। कपूर बंधुओं ने भी गाया।

एक मजेदार शो की योजना बनाई गई थी, लेकिन भगवान कुछ और चाहते थे
मैं भाई से लगातार सुनने के लिए बात करता था। अभी 10 दिन पहले, मैंने अब डेटिंग न करने के लिए श्रवण को डांटा। उन्होंने कहा कि कुछ जरूरी काम था। मैंने कहा जीवन की कोई गारंटी नहीं है। हम सिर्फ इंडियन आइडल के मंच पर एक साथ जाने के लिए हम दोनों की योजना बना रहे थे। मई के लिए फिल्मांकन निर्धारित था। श्रवण भाई ने कहा कि एक मजेदार शो होगा। नदीम करेंगे भाई वीडियो कॉन्फ्रेंस लेकिन ईश्वर की इच्छा के सामने कोई नहीं चलता। हम सब एक साथ थे। लेकिन श्रवण भाई का संगीत हमेशा नई पीढ़ी को नई ऊर्जा और ताजगी देगा। नदीम-श्रवण के काम से लोग सीखेंगे। मैं भगवान से अपने दोस्त को अपने पैरों पर जगह देने के लिए कहता हूं और अपने परिवार को इस दर्द को सहने की शक्ति देता हूं।

और भी खबरें हैं …





Source link

Leave a Comment