Tech $ Auto

ईवी गैसोलीन से बेहतर: इलेक्ट्रिक वाहन प्रति वर्ष 30 लाख बचाएगा, 1 लाख कार 38 महीने तक मुफ्त में उपलब्ध होगी; उनका पूरा गणित यहां समझें।


  • हिंदी समाचार
  • टेक कार
  • भारतीय इलेक्ट्रिक वाहन कंपनियों की सूची; इलेक्ट्रिक वाहन सब्सिडी और क्यों इलेक्ट्रिक वाहन गैसोलीन साइकिल और कार से बेहतर है

विज्ञापनों से थक गए? विज्ञापन मुक्त समाचार प्राप्त करने के लिए दैनिक भास्कर ऐप इंस्टॉल करें

नई दिल्लीएक घंटे पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना

बढ़ती पेट्रोल और डीजल की कीमतें इलेक्ट्रिक वाहन बाजार की जड़ों को मजबूत कर रही हैं। यही कारण है कि लगभग सभी बड़ी कंपनियां अब इलेक्ट्रिक वाहन खंड में प्रवेश कर रही हैं। ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए, जबकि कंपनियां कई आकर्षक ऑफ़र प्रदान करती हैं, सरकार इन वाहनों के लिए सब्सिडी भी प्रदान करती है। इस सेगमेंट में पिछले साल में भी तेजी आई है। हालांकि, अभी भी ग्राहकों के पास इलेक्ट्रिक वाहनों के बारे में कई सवाल हैं। जिसका जवाब इस खबर में मिल सकता है।

ज्यादातर लोगों के पास इलेक्ट्रिक वाहन के माइलेज और इसकी उच्च कीमत जैसे सवाल हैं। इसके अलावा, बैटरी के डिस्चार्ज होने पर वाहन को रोकने के खतरे को भी ध्यान में रखा जाता है। इन सवालों के जवाब लोकप्रिय YouTuber और ऑटो विशेषज्ञ अमित खरे ने दिए हैं।

पहला सवाल: बैटरी के डिस्चार्ज होने पर क्या होगा?

यह इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने से संबंधित सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न भी है। दरअसल, इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने वाले ग्राहकों को यह समझना होगा कि इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने का उद्देश्य क्या है। यानी, जिन लोगों को दिन में केवल 50 से 60 किलोमीटर की यात्रा करनी होती है, उन्हें बैटरी से बाहर भागने का तनाव नहीं होना चाहिए, क्योंकि ज्यादातर कंपनियों ने अब इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों की रेंज 80 से 100 किमी तक बढ़ा दी है। इसी समय, इलेक्ट्रिक वाहन खंड में, कार की स्वायत्तता 300 से 500 किमी हो गई है।

अब अगर आप रोज ऑफिस जाते हैं या बाजार से जुड़े महत्वपूर्ण काम करते हैं। अब अधिकतम 50 से 60 किमी का कार्य किया जाता है। इसके लिए, कार को चार्ज किया जा सकता है और दैनिक आधार पर चलाया जा सकता है। यह ठीक उसी तरह है जैसे लोग हर दिन एक कार में 100 रुपये का पेट्रोल डालकर काम संभालते हैं।

दूसरा सवाल: पेट्रोल और डीजल की तुलना में इलेक्ट्रिक वाहन कितना बेहतर है?

यह इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने से संबंधित दूसरा सबसे महत्वपूर्ण सवाल है। जवाब को इस तरह से समझा जा सकता है कि इन दिनों पेट्रोल और डीजल की कीमतें आसमान छू रही हैं। गैसोलीन 100 रुपये प्रति लीटर तक बढ़ गया है। यानी आपकी कार 1 लीटर पेट्रोल पर 70 किमी तक का सफर तय करेगी। वहीं, इलेक्ट्रिक वाहन अधिकतम 20 रुपये की लागत से इतने किलोमीटर तक चलेगा। यानी महीने के 30 दिन जहां पेट्रोल पर 3,000 रुपये खर्च होंगे। तो वहीं ईवी पर केवल 600 रुपये खर्च होंगे। इसका मतलब है कि आपको 2400 रुपये की सीधी बचत होगी।

ईवी से एक वर्ष में आप कितना बचा पाएंगे और कितने वर्षों में यह मुफ्त होगा?
यह किसी भी इलेक्ट्रिक वाहन को खरीदने से जुड़ा सबसे महत्वपूर्ण अंकगणित है, क्योंकि एक बार ग्राहक इसे समझने के बाद हर साल हजारों रुपये बचाएगा। आपकी बचत कितनी होगी यह प्रति यूनिट बिजली पर निर्भर करता है। उदाहरणों के साथ इस गणित को समझें …

  • आपने एक इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन खरीदा, जिसकी कीमत 1 लाख रुपये है।
  • आपके शहर में 1 यूनिट बिजली की कीमत 8 रुपये है। लगभग 2 इकाइयां ईवी को पूरी तरह से चार्ज करती हैं।
  • इसलिए 2 यूनिट्स के लिए ईवी को चार्ज करने के लिए 8 रुपये प्रति यूनिट की दर से एक दिन के लिए 16 रुपये लगेंगे।
  • ईवी मानकर 16 रुपये की लागत से 50 से 70 किमी की सीमा देता है।
  • अब इसकी कीमत 1 दिन में 16 रुपये है। तो एक महीने में 16 रुपये x 30 दिन = 480 रुपये खर्च होंगे।
  • हम राउंड फिगर में 480 रुपये के बजाय 500 रुपये का मासिक खर्च मानते हैं।
  • इस हिसाब से एक साल में 12 महीने x 500 रुपए = 6,000 रुपए खर्च होंगे।
  • मान लीजिए आप एक गैसोलीन कार पर एक दिन में 100 रुपये खर्च करते थे, तो आप हर महीने 3000 रुपये खर्च करते थे।
  • इस प्रकार, एक गैसोलीन कार की कीमत 12 महीने x 3,000 रुपये = 36,000 रुपये प्रति वर्ष है।
  • यानी पेट्रोल कार के लिए ईवी 6000 रुपये 36,000 रुपये से घटाए जाने चाहिए, तो एक साल में 30,000 रुपये की बचत होती है।
  • इस तरह, यह 3.2 साल में 38 लाख यानि 38 महीने में ईवी जारी करेगा।
  • उसी तरह, आप चार पहिया वाहन पर पेट्रोल / डीजल की लागत से इलेक्ट्रिक कार की बचत को समाप्त कर सकते हैं।

आपको बता दें कि कंपनियां इलेक्ट्रिक वाहन बैटरी के लिए 50 हजार से 1 लाख किलोमीटर या 5 साल की वारंटी देती हैं। वहीं, साल भर इसके रखरखाव की कोई कीमत नहीं है। यानी पहली मेंटेनेंस आने से पहले ही आपकी कार फ्री हो जाएगी।

इलेक्ट्रिक वाहन के जीवन का विस्तार करने के तरीके?

बैटरी और मोटर एक इलेक्ट्रिक वाहन के दो सबसे महत्वपूर्ण भाग हैं। ज्यादातर कंपनियां IP6 किराये की बैटरी देती हैं। यही है, बैटरी का धूल और नमी से कोई लेना-देना नहीं है। यहां तक ​​कि ये वाटरप्रूफ भी हैं। यानी बारिश के दिनों में भी कोई समस्या नहीं थी। कंपनी बैटरी पर 5 साल या 1 लाख किमी की वारंटी देती है। इसी समय, इस पर कोई रखरखाव भी नहीं है। इसके बाद भी, बैटरी जीवन को बढ़ाने का सबसे आसान तरीका बार-बार चार्ज करने से बचना है। वहीं, ओवरचार्ज होने से बचें।

भारत में कौन सी कंपनियां इलेक्ट्रिक वाहन बेचती हैं?

देश में अब एक दर्जन से अधिक इलेक्ट्रिक वाहन कंपनियां हैं। इनमें दो- और चार पहिया वाहन कंपनियां शामिल हैं। बेंगलुरु की बेस्ट एथर एनर्जी टू-व्हीलर में तेजी से लोकप्रिय हुई है। इसलिए हीरो, ओकिनावा और अब बजाज भी सुर्खियां बटोर रहे हैं। वहीं, चौपहिया वाहन में हुंडई, टाटा, एमजी जैसी कंपनियां ज्यादा लोकप्रिय हैं।

आपकी नौकरी के अनुसार कौन सा इलेक्ट्रिक वाहन बेहतर है?

भारतीय बाजार में लगभग 50 लाख रुपये से लेकर 1.50 लाख रुपये तक के इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन हैं। वे सभी अलग-अलग रेंज में आते हैं। ऐसी स्थिति में, आपको दो या चार पहिया इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने से पहले, आपको यह विचार करना होगा कि आपकी जरूरत क्या है। यानी आप एक दिन में कार से कितना सफर करते हैं। वैसे भी, इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों का उपयोग घर के अंदर किया जाता है। अगर आपको रोजाना 30 से 40 किमी की दूरी तय करनी है, तो आप ईवी को 50 लाख में खरीद सकते हैं।

क्या राज्य इलेक्ट्रिक वाहनों को सब्सिडी दे रहे हैं?

भारत के अधिकांश राज्य इलेक्ट्रिक वाहनों को सब्सिडी नहीं दे रहे हैं। अभी, दिल्ली, महाराष्ट्र, कर्नाटक, बिहार, उत्तराखंड, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और पंजाब नए इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद पर रोड टैक्स में 100% की छूट देते हैं। वहीं, उत्तर प्रदेश अपने राज्य में निर्मित इलेक्ट्रिक वाहनों को सब्सिडी दे रहा है। केंद्र सरकार ने 62,000 इलेक्ट्रिक कारों और बसों को सब्सिडी देने की योजना बनाई है।

सब्सिडी पर, फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (FADA) के अध्यक्ष, विंकेश गुलाटी ने कहा कि देश में केवल 5-7 राज्य इलेक्ट्रिक वाहनों को सब्सिडी दे रहे हैं। हम इलेक्ट्रिक वाहनों को सब्सिडी देने के बारे में देश के हर राज्य के परिवहन मंत्रियों से बात कर रहे हैं। यूपी ने हाल ही में एक सब्सिडी की घोषणा की है, लेकिन यह केवल यूपी में निर्मित वाहनों को ही अनुदान देगा। जब तक सभी राज्यों में इलेक्ट्रिक वाहनों के बारे में ऐसी नीति नहीं होगी, लोग उन्हें खरीदने से बचेंगे।

और भी खबरें हैं …





Source link

Leave a Comment