Madhyapradesh

इंदौर: कोरोना ने सात फेरों में ‘ब्रेक ’लगाया, सैकड़ों बैंड-बाजा-बारात की अनुमति नहीं दी

Written by [email protected]


न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, इंदौर

द्वारा प्रकाशित: तनुजा यादव
Updated Sun, Apr 18, 2021 3:04 pm IST

बायोडाटा

मध्य प्रदेश में बढ़ते ताज के प्रकोप को देखते हुए इंदौर प्रशासन ने जिले में शादी समारोह को मंजूरी देने से इनकार कर दिया है।

खबर सुनें

कोरोना वायरस ने भी शादी समारोह को संभाल लिया है। मध्यप्रदेश में बढ़ते ताज के प्रकोप को देखते हुए इंदौर प्रशासन ने शादी समारोह को लेकर एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। बता दें कि अगले हफ्ते से हिंदू रीति-रिवाजों के तहत विवाह मुहूर्त शुरू होंगे।

लेकिन इंदौर प्रशासन ने फिलहाल शादी समारोहों को मंजूरी देने से इनकार कर दिया है। परिणामस्वरूप, आने वाले समय के लिए कई शादियां स्थगित कर दी गई हैं और लोगों की शादी की योजना को विफल कर दिया गया है। जिला मजिस्ट्रेट मनीष सिंह ने बताया कि कोरोना के प्रकोप को देखते हुए हम इस समय शादी को मंजूरी नहीं दे पा रहे हैं। हम लोगों के स्वास्थ्य के बारे में चिंतित हैं।

बता दें कि इंदौर प्रशासन ने शनिवार को फैसला किया कि 12 अप्रैल से जारी कोरोना कर्फ्यू 23 अप्रैल तक बरकरार रहेगा। इस बीच, इंदौर होटलियर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सुमित सूरी ने कहा कि अप्रैल और मई में स्थानीय होटलों और वेडिंग हॉलों में लगभग 1,500 शादियों की बुकिंग की गई थी।

हालांकि, ज्यादातर लोगों ने कोरोना के बढ़ते कहर के मद्देनजर शादियों को रद्द कर दिया है। उन्होंने अनुमान लगाया कि इन विवाहों के स्थगित होने से लगभग 200 मिलियन रुपये का नुकसान होगा। बता दें कि इंदौर मध्य प्रदेश में सबसे अधिक प्रभावित कोरोना जिला है। रेमेडिसिविर और ऑक्सीजन की कमी के कारण भी यहां कोरोना मामलों में वृद्धि देखी जा रही है।

विस्तृत

कोरोना वायरस ने भी शादी समारोह को संभाल लिया है। मध्यप्रदेश में बढ़ते ताज के प्रकोप को देखते हुए इंदौर प्रशासन ने शादी समारोह को लेकर एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। बता दें कि अगले हफ्ते से हिंदू रीति-रिवाजों के तहत विवाह मुहूर्त शुरू हो जाएंगे।

लेकिन इंदौर प्रशासन ने फिलहाल शादी समारोहों को मंजूरी देने से इनकार कर दिया है। परिणामस्वरूप, आने वाले समय के लिए कई शादियां स्थगित कर दी गई हैं और लोगों की शादी की योजना को विफल कर दिया गया है। जिला मजिस्ट्रेट मनीष सिंह ने बताया कि कोरोना के प्रकोप को देखते हुए हम इस समय शादी को मंजूरी नहीं दे पा रहे हैं। हम लोगों के स्वास्थ्य के बारे में चिंतित हैं।

बता दें कि इंदौर प्रशासन ने शनिवार को फैसला किया कि 12 अप्रैल से जारी कोरोना कर्फ्यू 23 अप्रैल तक बरकरार रहेगा। इस बीच, इंदौर होटलियर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सुमित सूरी ने कहा कि अप्रैल और मई में स्थानीय होटलों और वेडिंग हॉलों में लगभग 1,500 शादियों की बुकिंग की गई थी।

हालांकि, ज्यादातर लोगों ने कोरोना के बढ़ते कहर के मद्देनजर शादियों को रद्द कर दिया है। उन्होंने अनुमान लगाया कि इन विवाहों के स्थगित होने से लगभग 200 मिलियन रुपये का नुकसान होगा। बता दें कि इंदौर मध्य प्रदेश में सबसे अधिक प्रभावित कोरोना जिला है। रेमेडिसिविर और ऑक्सीजन की कमी के कारण भी यहां कोरोना मामलों में वृद्धि देखी जा रही है।





Source by [author_name]

About the author

Leave a Comment