Good Health

white beans are the power house of nutrition control weight pur – Good Health

Written by H@imanshu





सफेद बीन्स का इस्तेमाल हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक है.

Benefits Of White Beans: फाइबर और प्रोटीन (Protein) से भरपूर होने की वजह से सफेद बीन्स को पोषण का पावर हाउस कहा जाता है.

Benefits Of White Beans: कई लोग अपनी रोज की डाइट में सफेद बीन्स (White Beans) का इस्तेमाल जरूर करते हैं. विभिन्न पोषक तत्वों से भरपूर ये अनाज वास्तव में पोषण (Nutrients) का खजाना है जिसे किसी न किसी रूप में जरूर खाना चाहिए. फाइबर और प्रोटीन (Protein) से भरपूर होने की वजह से सफेद बीन्स को पोषण का पावर हाउस कहा जाता है. यह कई सूक्ष्म पोषक तत्वों का एक अच्छा स्रोत हैं, जिनमें फोलेट, मैग्नीशियम और विटामिन बी 6 शामिल हैं. आइए आपको बताते हैं कि सफेद बीन्स खाने से आपकी सेहत को कैसे फायदा हो सकता है.

प्रोटीन से भरपूर
सफेद बीन्स प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत हैं. इसे डाइट में शामिल करने से मांसपेशियां स्वस्थ रहती हैं. इसमें अमीनो एसिड मौजूद होता है जो प्रोटीन के निर्माण में मुख्य भूमिका निभाते हैं और कई शारीरिक प्रक्रियाओं में भी एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं. इसमें मांसपेशियों का निर्माण, पोषक तत्व परिवहन और हॉर्मोन उत्पादन शामिल हैं. शाकाहारी भोजन करने वालों के लिए ये बीन्स प्राथमिक प्रोटीन स्रोतों में से एक के रूप में काम कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ेंः गर्मियों में भिंडी का जरूर करें सेवन, इम्यूनिटी मजबूत करने से लेकर पेट को रखता है दुरुस्तफाइबर से भरपूर

सफेद बीन्स में भरपूर मात्रा में फाइबर होता है. उच्च फाइबर डाइट बेहतर पाचन स्वास्थ्य से जुड़े हैं और मल की मात्रा में वृद्धि और आंतों को स्वस्थ रखने का काम करते हैं. यह सभी फाइबर तत्व मल त्याग की प्रक्रिया को आसान करके कब्ज की समस्या से भी निजात दिलाते हैं.

वजन करे कंट्रोल
सफेद बीन्स में एक उच्च पोषक तत्व घनत्व और काफी कम कैलोरी की मात्रा मौजूद होती है. सफेद बीन्स खाने से मोटापे की समस्या कम होती है. साथ ही वजन कंट्रोल में रहता है और पेट की चर्बी भी नहीं बढ़ती. सफेद बीन्स को अपनी डाइट में जरूर शामिल करें. ये महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए तो बहुत ही अच्छा है.

इसे भी पढ़ेंः घर पर बनाएं हेल्दी एंड टेस्टी प्रोटीन शेक, तुरंत दूर होगी शरीर की थकावट

हड्डियां बनाए मजबूत
सफेद बीन्स का इस्तेमाल हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए भी बेहद लाभदायक है. इनमें मौजूद उच्च प्रोटीन और कैल्शियम तत्व हड्डियों को भीतर से मजबूती प्रदान करने के साथ हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक होते हैं. इनके सेवन से हड्डियों से सम्बंधित कई समस्याओं से निजात पाया जा सकता है. इसके अलावा हड्डियों से संबंधी कई समस्याओं जैसे ऑर्थराइटिस से भी छुटकारा पाया जा सकता है.(Disclaimer:इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)


<!–

–>

<!–

–>


window.addEventListener(‘load’, (event) => {
nwGTMScript();
nwPWAScript();
fb_pixel_code();
});
function nwGTMScript() {
(function(w,d,s,l,i){w[l]=w[l]||[];w[l].push({‘gtm.start’:
new Date().getTime(),event:’gtm.js’});var f=d.getElementsByTagName(s)[0],
j=d.createElement(s),dl=l!=’dataLayer’?’&l=”+l:”‘;j.async=true;j.src=”https://www.googletagmanager.com/gtm.js?id=”+i+dl;f.parentNode.insertBefore(j,f);
})(window,document,’script’,’dataLayer’,’GTM-PBM75F9′);
}

function nwPWAScript(){
var PWT = {};
var googletag = googletag || {};
googletag.cmd = googletag.cmd || [];
var gptRan = false;
PWT.jsLoaded = function() {
loadGpt();
};
(function() {
var purl = window.location.href;
var url=”//ads.pubmatic.com/AdServer/js/pwt/113941/2060″;
var profileVersionId = ”;
if (purl.indexOf(‘pwtv=’) > 0) {
var regexp = /pwtv=(.*?)(&|$)/g;
var matches = regexp.exec(purl);
if (matches.length >= 2 && matches[1].length > 0) {
profileVersionId = “https://hindi.news18.com/” + matches[1];
}
}
var wtads = document.createElement(‘script’);
wtads.async = true;
wtads.type=”text/javascript”;
wtads.src = url + profileVersionId + ‘/pwt.js’;
var node = document.getElementsByTagName(‘script’)[0];
node.parentNode.insertBefore(wtads, node);
})();
var loadGpt = function() {
// Check the gptRan flag
if (!gptRan) {
gptRan = true;
var gads = document.createElement(‘script’);
var useSSL = ‘https:’ == document.location.protocol;
gads.src = (useSSL ? ‘https:’ : ‘http:’) + ‘//www.googletagservices.com/tag/js/gpt.js’;
var node = document.getElementsByTagName(‘script’)[0];
node.parentNode.insertBefore(gads, node);
}
}
// Failsafe to call gpt
setTimeout(loadGpt, 500);
}

// this function will act as a lock and will call the GPT API
function initAdserver(forced) {
if((forced === true && window.initAdserverFlag !== true) || (PWT.a9_BidsReceived && PWT.ow_BidsReceived)){
window.initAdserverFlag = true;
PWT.a9_BidsReceived = PWT.ow_BidsReceived = false;
googletag.pubads().refresh();
}
}

function fb_pixel_code() {
(function(f, b, e, v, n, t, s) {
if (f.fbq) return;
n = f.fbq = function() {
n.callMethod ?
n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments)
};
if (!f._fbq) f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s)
})(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘482038382136514’);
fbq(‘track’, ‘PageView’);
}

Source link



Source link

About the author

H@imanshu

Leave a Comment