होम Jabalpur जबलपुर Mp से समाचार: दुल्हन ने सतना में घोडा दुल्हन बारात नृत्य...

जबलपुर Mp से समाचार: दुल्हन ने सतना में घोडा दुल्हन बारात नृत्य पर बारात निकाली, परिवार का कहना है कि वे समाज को एक संदेश देना चाहते हैं – जबलपुर मप्र: मध्य प्रदेश: दुल्हन की घोड़ी पर सवार होकर, परिवार ने कहा – बेटियाँ नहीं हैं किसी को बोझ नहीं

13
0

खबरें सुनें

आपने दूल्हे को घोड़ी पर बैठकर शादी की बारात लाते हुए देखा होगा। लेकिन क्या आपने कभी किसी दुल्हन को घोड़ी पर चढ़कर दूल्हे के घर बारात की ओर जाते देखा है? आपका जवाब होगा नहीं। तो हम आपको इन घटनाओं के बारे में बताते हैं जो मध्य प्रदेश के सतना में देखी गई हैं। यह घटना अब सुर्खियों में है।

मध्य प्रदेश के सतना जिले के वलेचा परिवार की इकलौती बेटी घोड़े पर सवार हुई। बड़ी धूमधाम से, बारात दूल्हे के घर के लिए सतना से कोटा रवाना हुई। परिवार ने न केवल बेटी की घोड़ी पर चढ़ने की अपनी इच्छा पूरी की, बल्कि समाज को एक संदेश भी दिया कि बेटियां किसी के लिए बोझ नहीं हैं।

परिवार ने कहा कि बेटा और बेटी में कोई अंतर नहीं है। समाज में बेटियों की तरह बेटियों के भी समान अधिकार होने चाहिए। वहीं, प्रेमिका वलेचा ने कहा कि मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं कभी घोड़ी पर बैठूंगी। जब मैंने देखा कि इन लोगों ने बहुत योजना बनाई है, तो मुझे बहुत खुशी हुई कि मेरे परिवार ने मेरे बारे में इतना सोचा।

दीपा ने कहा मैं यह संदेश देना चाहती हूं कि लड़कियां कभी भी अपने परिवार के लिए बोझ नहीं हैं। हर किसी को सोचना चाहिए कि लड़कियां लड़कों जैसी ही होती हैं। इसलिए उन्हें लड़कों के समान प्यार मिलना चाहिए। परिवार के मुताबिक, उनकी सालों बाद एक बेटी है। वे अपनी बेटी को अपने बेटे से ज्यादा प्यार करते हैं।

दीपा के परिवार ने कहा कि पुरुष बच्चों को अक्सर समाज में पसंद किया जाता है। इसलिए हम अपनी बेटी की बारात निकालना चाहते हैं और समाज को यह संदेश देना चाहते हैं कि हमें बेटियों का सम्मान करना चाहिए क्योंकि अगर बेटी होगी तो वह कल होगी। दुल्हन की मां नेहा वलेचा ने कहा कि जब हमने बच्चों की बारात निकाली, तो हमारा सपना बेटी की बारात निकालना था। 25 साल बाद, अगर हमारे परिवार में एक बेटी की शादी हो रही है, तो हर कोई बहुत खुश है। आज भी हमारे समाज में कुछ ऐसी बीमारियाँ हैं, जो बेटियों को बोझ मानती हैं। दीपा की शादी उसका संदेश है।

आपने दूल्हे को घोड़ी पर बैठकर शादी की बारात लाते हुए देखा होगा। लेकिन क्या आपने कभी किसी दुल्हन को घोड़ी पर चढ़कर दूल्हे के घर बारात की ओर जाते देखा है? आपका जवाब होगा नहीं। तो हम आपको इन घटनाओं के बारे में बताते हैं जो मध्य प्रदेश के सतना में देखी गई हैं। यह घटना अब सुर्खियों में है।

मध्य प्रदेश के सतना जिले के वलेचा परिवार की इकलौती बेटी घोड़े पर सवार हुई। बड़ी धूमधाम से बारात सतना से कोटा के लिए दूल्हे के घर रवाना हुई। परिवार ने न केवल बेटी की घोड़ी पर चढ़ने की अपनी इच्छा पूरी की, बल्कि समाज को एक संदेश भी दिया कि बेटियां किसी के लिए बोझ नहीं हैं।

परिवार ने कहा कि बेटा और बेटी में कोई अंतर नहीं है। समाज में बेटियों की तरह बेटियों के भी समान अधिकार होने चाहिए। वहीं, प्रेमिका वलेचा ने कहा कि मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं कभी घोड़ी पर बैठूंगी। जब मैंने देखा कि इन लोगों ने बहुत योजना बनाई है, तो मुझे बहुत खुशी हुई कि मेरे परिवार ने मेरे बारे में इतना सोचा।

दीपा ने कहा मैं यह संदेश देना चाहती हूं कि लड़कियां कभी भी अपने परिवार के लिए बोझ नहीं हैं। हर किसी को सोचना चाहिए कि लड़कियां लड़कों जैसी ही होती हैं। इसलिए उन्हें लड़कों के समान प्यार मिलना चाहिए। परिवार के मुताबिक, उनकी सालों बाद एक बेटी है। वे अपनी बेटी को अपने बेटे से ज्यादा प्यार करते हैं।

दीपा के परिवार ने कहा कि पुरुष बच्चों को अक्सर समाज में पसंद किया जाता है। इसलिए हम अपनी बेटी की बारात निकालना चाहते हैं और समाज को यह संदेश देना चाहते हैं कि हमें बेटियों का सम्मान करना चाहिए क्योंकि अगर बेटी होगी तो वह कल होगी। दुल्हन की मां नेहा वलेचा ने कहा कि जब हमने बेटों की बारात निकाली तो हमारा सपना बेटी की बारात निकालना था। 25 साल बाद, अगर हमारे परिवार में एक बेटी की शादी होनी है, तो हर कोई बहुत खुश है। आज भी हमारे समाज में कुछ ऐसी बीमारियाँ हैं, जो बेटियों को बोझ मानती हैं। दीपा की शादी उसका संदेश है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here